UPSC Interview Preparation 2024 की करे तैयारी, रखें इन बातों का ख्याल

UPSC Interview Preparation 2024: ऐसे करें IAS इंटरव्यू की तैयारी, रखें इन बातों का ख्याल

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा का इंटरव्यू दिल्ली स्थित UPSC के भवन में होता है. आपका इंटरव्यू इस हेतु गठित विभिन्न इंटरव्यू बोर्डों में से किसी एक द्वारा लिया जाता है. प्रत्येक इंटरव्यू बोर्ड के अध्यक्ष संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य होते हैं

UPSC Interview Preparation 2024

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में आपका अंतिम रूप से चयन और आपकी रैंक निर्धारित करने में इंटरव्यू बड़ी भूमिका निभाता है. यद्यपि इंटरव्यू (व्यक्तित्व परीक्षण) के अंक 275 हैं, पर अभ्यर्थियों को प्राप्त अंकों में काफी अंतर होता है. आप अकसर ऐसा पाएँगे कि किसी अभ्यर्थी को 275 अंकों में से 225 अंक मिले तो किसी को 125 अंक. प्राप्तांकों में यह बड़ा अंतर आपकी फाइनल मेरिट पर बड़ा प्रभाव डाल सकता है.

UPSC Interview Preparation 2024 के संबंध में कुछ अभ्यर्थी यह भी मानते हैं कि भला इंटरव्यू की तैयारी की जरूरत ही क्या है? आप जैसे हैं, जो कुछ भी जानते हैं, उसी आधार पर इंटरव्यू दे आइए. चूँकि इंटरव्यू दरअसल एक व्यक्तित्व परीक्षण है और कोई भी व्यक्ति रातोंरात अपने व्यक्तित्व में आमूल-चूल परिवर्तन या सुधार नहीं कर सकता. किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व का निर्माण कुछ दिनों या महीनों में नहीं होता. बचपन से लेकर आज तक की पढ़ाई, परवरिश और अनुभवों से मिलकर किसी का समग्र व्यक्तित्व निर्मित होता है. पर इसमें भी कोई संदेह नहीं है कि मुख्य परीक्षा के बाद मिलनेवाले समय में अभ्यास और परिश्रम से व्यक्तित्व को कुछ निखारा और सँवारा तो जा ही सकता है. अतः मेरी यह व्यक्तिगत सलाह होगी कि इंटरव्यू की तैयारी में कुछ समय जरूर दें.

यूपीपीएससी पीसीएस सिलेबस 2024 जारी कर दिया गया है

UPSC Interview Preparation 2024 – कुछ अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा के बाद परिणाम की अटकलों और जोड़-घटाव में महीनों निकाल देते हैं. यदि आप मुख्य परीक्षा के रिजल्ट के बाद इंटरव्यू की तैयारी का सोच रहे हैं तो ध्यान रखें, हो सकता है, आपको एक हफ्ते से एक महीने का ही वक्त मिले. बेशक, इतनी कम अवधि में आप इंटरव्यू के लिए सारी तैयारी तो नहीं कर सकते, लेकिन हाँ, अगर आप में कुछ कमियाँ हैं तो उन्हें तराश जरूर सकते हैं. मैं पुनः कहूँगा कि इंटरव्यू के लिए तैयारी आप रिजल्ट से पहले भी करते रहें और उसे इस पर ही न टालें कि जब मेंस क्लियर होगा, तभी आप इंटरव्यू के बारे में सोचेंगे.

UPSC Interview Preparation 2024 सिविल सेवा परीक्षा के विषय में कहा जाता है कि ये सबसे अनिश्चित परीक्षा है। इस परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाएंगे इसका आइडिया शायद ही किसी को हो। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा (UPSC Civil Services Exam) तीन चरणों प्रीलिम्स, मेंस और इंटरव्यू के रूप में संपन्न होती है। जहां प्रीलिम्स ऑब्जेक्टिव वहीं मेन्स सब्जेक्टिव और इंटरव्यू में पर्सनैलिटी टेस्ट होता है। इंटरव्यू में बढ़िया प्रदर्शन से चयन की उम्मीद काफी बढ़ जाती है। आपको आईएएस के इंटरव्यू में पूछे जाने वाले कुछ सवालों के बारे में बताएंगे, जिन्हें सुनकर आप हैरान रह जाएंगे।

यूपीपीएससी 2024 ऑनलाइन आवेदन आधिकारिक वेबसाइट से करे

क्या है UPSC Interview Preparation 2024?

(UPSC Interview Preparation 2024) UPSC की सिविल सेवा परीक्षा का इंटरव्यू दिल्ली स्थित UPSC के भवन में होता है. आपका इंटरव्यू इस हेतु गठित विभिन्न इंटरव्यू बोर्डों में से किसी एक द्वारा लिया जाता है. प्रत्येक इंटरव्यू बोर्ड के अध्यक्ष संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य होते हैं. प्रत्येक इंटरव्यू बोर्ड में आम तौर पर एक अध्यक्ष और चार अन्य सदस्य होते हैं.

इंटरव्यू बोर्ड के समक्ष लोक सेवाओं में कैरियर के लिए अभ्यर्थियों की उपयुक्तता (suitability) की जाँच की महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी होती है. मेरी समझ में, इंटरव्यू बोर्ड यह जानने कि ‘आप कितना जानते हैं?’ से ज्यादा यह जानना चाहता है कि आपका व्यक्तित्व कैसा है और आप कैसे सोचते हैं, कैसे व्यवहार करते हैं और आप कितना सीखना चाहते हैं, यानी आपको ट्रेनिंग दी जा सकती है या नहीं? इंटरव्यू बोर्ड आपकी बौद्धिक योग्यताओं के साथ-साथ आपके सामाजिक-व्यावहारिक गुणों की परख भी करना चाहता है.

ऐसे कुछ गुणों या विशेषताओं में—मानसिक सतर्कता, स्पष्ट एवं तर्कपूर्ण अभिव्यक्ति, संतुलित दृष्टिकोण, नेतृत्व कौशल, नैतिक सत्यनिष्ठा, समालोचनात्मक विश्लेषण, सामान्य रुचि के विषयों और रोजमर्रा की घटनाओं के प्रति उत्सुकता एवं जागरूकता जैसी विशेषताएँ शामिल हैं. इसके साथ ही उम्मीदवार की भाषा, शब्दों के चयन और धैर्य की भी परीक्षा की जाती है. मेरी समझ में, किसी भी श्रेष्ठ अभ्यर्थी में परिपक्वता, तार्किकता, विनम्रता, संचार कौशल, संचित ज्ञान का विस्तृत और व्यापक आधार, सकारात्मकता, प्रत्युत्पन्नमतित्व (presence of mind), व्यापक और संतुलित व्यावहारिक दृष्टिकोण जैसे गुणों का एक ठीक-ठाक विकसित स्तर होना चाहिए.